इयत्ता-प्रकृति

Saturday, June 25, 2011

अब मै सुरक्षित हूँ ?



इस सदी ने

मेरे दिल को

चीरकर

रख लिया है

सहेजकर

पॉलीथीन में;

कभी न सड़ने के लिए !!

[] राकेश 'सोहम'

Labels: