इयत्ता-प्रकृति

Monday, November 16, 2009

अखबार वाले छापें तो!

Ganga Safai कल मैं व्यग्र था कि कल के रविवासरीय गंगा घाट सफाई कार्यक्रम की रपट कोई स्थानीय अखबार वाला छाप तो दे! दो सज्जनों को सम्पर्क किया। प्रेसविज्ञप्तियात्मक राआइट-अप बना ई-मेल किया। और अब भी अपना अनुमान लगा रहा हूं कि किसने छापा होगा!
छपास मुझमें कभी न थी। अपने लिये है भी नहीं। पर जो लोग स्वयँ-स्फूर्त सेवा का काम कर रहे हैं - और बीस-पच्चीस लोग हैं; उनका प्रिण्ट मीडिया में वर्णन उनके लिये रीवाइटलाइजर है।
अब लग रहा है कि कोई अखबार मुझे गंगाविषयक साप्ताहिक कॉलम लिखने का स्पेस दे दे तो कितना भला हो! क्या स्क्राइब बनने का यह रूट है!
आप वह राइट-अप देखें जो मैने पत्रकार मित्रों को ई-मेल किया -   

शिवकुटी में गंगाघाट की सफाई
Ganga safai1 इलाहाबाद के उत्तरीपूर्वी छोर पर शिवकुटी घाट की सफाई के लिये कुछ लोग इकठ्ठा हो कर पिछले तीन सप्ताह से प्रयास कर रहे हैं। इस समूह में लगभग २०-२५ लोग रविवार को सुबह डेढ़ घण्टे घाट की सफाई, मरम्मत और सीढियों के रखरखाव का काम करते हैं। ये लोग अपनी गतिविधियां और व्यापक करने की सोच रहे हैं।
अब तक इन लोगों ने लगभग डेढ़-दो टन घाट का कचरा इकठ्ठा कर डिस्पोज किया है। उसमें पॉलीथीन की पन्नियां और खण्डित मूर्तियां प्रमुख हैं। यह कचरा लगभग २५० मीटर लम्बे और १०० मीटर के आधार के त्रिभुजाकार क्षेत्र में फैला होता है। यह समूह उस कचरे को इकठ्ठा कर एक लैण्ड-फिल में समेटता है कचरा न उड़े, इसके लिये उसपर रेत की एक परत डाली जाती है।
इस रविवार को गंगा की कटान से घाट को क्षरण से रोकने के लिये तीस बोरियों में रेत भर कर जमाया गया। इससे नित्य स्नानार्थियों को सहूलियत होगी।shivakuti panda
इस स्वत स्फूर्त समूह में दुकानदार, सरकारी कर्मी, बच्चे और महिलायें और इस घाट के पण्डा शामिल हैं।
समूह में जो नियमित लोग हैं उनमें सर्वश्री आद्याप्रसाद पाण्डेय, दिनेश पाण्डेय, पंकज सिंह, कमलेश तिवारी, भरतलाल, मनोज शुक्ल, ऋषि शर्मा, ज्ञानेन्द्र पाण्डेय, चन्द्रमा और लवकुश कनौजिया, नरेन्द्र मिश्र, हिमांशु, प्रांजल, अभ्युदय और महीप शामिल हैं।
अगले रविवार यह समूह पुन: मिलेगा, अपनी गतिविधियां जारी रखने को।
मेरी गंगा विषयक पोस्टें आप यहां देखें।

अपडेट - मेरी पत्नीजी ने बताया कि जागरण समूह के आई-नेक्स्ट ने इस विषय को कवर कर लिया है। मेरे बन्धुओं को कुछ रीवाइटल मिला होगा जरूर! कल बतायेंगे वे लोग! :-)

7 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]



Links to this post:

Create a Link

<< Home